हमे जानें
संपर्क करें
हमे जानें

होम्योपैथी एक समग्र तार्किक और व्यक्तिपरक दवा चिकित्सा विज्ञान की दार्शनिक प्रणाली है, जो अच्छी तरह से साबित वैज्ञानिक सिद्धांतों विशेष रूप से समानता का कानून पर आधारित है| यह, उन सभी मामलों के लिए इलाज की संभावना है जो अपरिवर्तनीय पथो-शारीरिक परिवर्तन के लिए जमा किये गए हैं; बाद की स्थिति में, यह एक लंबे समय तक राहत लाती है|
<Dr. Samuel Hahnemannbr> यह चिकित्सकीय प्रणाली एक प्रसिद्ध जर्मन चिकित्सक, शमूएल हैनिमैन (1755-1843) ने 200 से अधिक वर्षों पहले शुरू की और भारतीय उप महाद्वीप में यह सबसे व्यापक है| कई चुनौतीपूर्ण समस्याओं में अपनी प्रभावशीलता देने के एक ही कारण से  आजतक  अपने अस्तित्व में है|

होम्योपैथी का मूलभूत सिद्धांत 'सिमिलिया  सिमिलिबुस  करेंतुर' (लैटिन) जिसे समानता के सिद्धांत के रूप में जाना जाता है, का अर्थ है -- चलो पसंद का इलाज पसंद तरीके द्वारा किया जाए| यह उपचार के एक सिस्टम प्रतीक है जिसमें नुस्खे रोगी के लक्षण की समानता पर आधारित है, उन होम्योपैथिक मटेरिया मेडिका की एक दवा पदार्थ से होता है| इसीप्रकार इसमे  न केवल पेश शिकायत की समानता शामिल है, बल्कि उनके तौर तरीकों, संविधान, स्वभाव, आकर्षक और मौलिक रूप अच्छी तरह से है| यह उपचार की समानता के साथ एक नोसोलोगिकल निदान से बचाता है|

यह चिकित्सा सिद्धांत अति प्राचीन काल से ही अस्तित्व में है:

  • प्राचीन हिंदू चिकित्सक,  वास्तव में “समानता के सिद्धांत" : संस्कृत में प्रसिद्ध "विषस्य विश्मोशाधि" को उपचार के सिद्धांतों में से एक मानते थे|
  • देल्फिक आकाश वाणी (8 वीं शताब्दी ईसा पूर्व) में घोषणा की, "जो बीमार है ठीक होगा"|
  • हिप्पोक्रेट्स(460-370 ईसा पूर्व) ने लिखा, “जान-पहचान के तरीके से रोग उत्पन्न होता है, और जान-पहचान के तरीके से यह "ठीक" होता है”|
  • कई प्रसिद्ध चिकित्सकों अपने समय में, अपने अभ्यास में समानता के कानून इस्तेमाल करते थे: ग्रीक स्कूलों के कालफ़न के निकांदर (दूसरी शताब्दी), चल्सदों के क्सेनोक्रेतेस(396-314 ई.पू.); रोमन स्कूलों के मरकुस तेरेंतिउस वर्रो  (116-27 बी सी),  कुइंतुस सम्मोनिचुस सेरेनुस (द्वितीय-तृतीय शताब्दी ऐ डी),  सल्सुस  (द्वितीय शताब्दी ऐ डी)  और क्लौदिउस गलें (129– सिरका 200 और 216 ऐ डी) ;  बासिल वेलेंटाइन (लगभग 15 वीं सदी); पेरासेलसस (1493-1541), जेओर्ग अर्नस्ट स्तःल (1660-1734), गेओर्ग  च्रिस्तोफ  देथार्डिंग (1699-1784), एंटोन व्यापारी वॉन सतोरक्क (1731-1803) आदि|
  • "आधुनिक इम्यूनोलॉजी" के पिता डा. एमिल अडोल्फ वॉन बेहरिंग ने खुले तौर पर कहा टीकाकरण के मूल पर घोषणा करके कहा, "हैनिमैन शब्द "होम्योपैथी" के  अलावा हम इस प्रभाव पर किस तकनीकी पद से और अधिक उचित बोल सकता है”|  " (मोडर्न फ्थिसो गेनेटिक एंड फ्थिसियो-थेरापयूटिक प्रोब्लेम्स इन हिस्टोरिकल ईल्लुमिनतिओन, सेक्सन पांच, न्यू योर्क, 1906)
होम्योपैथी के अन्य मौलिक सिद्धांत:

1) सिंप्लेक्स का सिद्धांत - एक बार में केवल एक एकल, दवाई इस्तेमाल किया जाना चाहिए और वहाँ पोलीफार्मेसी के लिए कोई गुंजाइश नहीं है| जीवन की समग्र दृष्टि में सम्पूर्ण जीवन को एक इकाई के रूप में देखने पर, जीवन की काटीज़ियनवादी के विपरीत, होम्योपैथी का यह दृष्टिकोण तार्किक प्रतीत होता है| जब भी कोई दवा एक व्यक्ति को मौखिक मार्ग, इंजेक्शन या फिर स्प्रे के माध्यम से दी जाती है, तब यह ऊतकों, रक्त प्रवाह और सिर्फ एक विशेष अंग प्रणाली को नहीं इसके  माध्यम से पूरी मानव जीव कोप्रभावित करता है| हम किसी भी एलोपैथिक दवा को लेते हैं, अगर हम माने कि यह केवल उपचार के दौरान केवल शरीर के संबंधित अंग को प्रभावित करेगा तो हम शरीर क्रिया विज्ञान के हमारे ज्ञान की घोर उपेक्षा कर रहे हैं| इस दवा के दुष्प्रभाव (या प्राथमिक प्रभाव??) पर एक आकस्मिक झलक से पता चलता है इस दवा का प्रभाव मानव शरीर के अन्य भागों पर होता  है|
2) कम से कम की विधि – खुराक कम से कम होना चाहिए; मानव जीव को उत्तेजित करने और प्रत्यक्ष परिवर्तन के लिए और यह हर व्यक्ति में भिन्न होता है.. औषध विज्ञान को एक लंबे समय के लिए, 'अर्न्द्त-स्चुल्ज़' के नियम से जाना जाता है जिसके अनुसार, कमजोर उत्तेजनाए महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं को तेज करती हैं, मध्यम को बढ़ावा देती हैं और शक्तिशाली का दमन करती हैं.. बाद में 'होर्मेसिस' का तथ्य ने रूचि उत्पन्न करदी और उसी समय होम्योपैथी में प्रयोग होने वाली माइक्रो खुराक के लिए विश्वसनीयता, यह साबित करके पैदा की कि छोटी खुराक का असर बड़े खुराकों के विपरीत है|
3) दवा साबित का सिद्धांत - पशु पर प्रयोग के विरोध में, मानव पर प्रयोग में होम्योपैथी तनाव होता है और अल्ब्रेक्ट वॉन हलर (1708-1777) ने हैनिमैन से पहले हि यह विचार व्यक्त कर दिया था.. एक दवा के सटीक चिकित्सकीय गुण का अवलोकन किया गया, जब इसे अच्छी संख्या में दोनों लिंगों के (प्रयोग की द्रस्ती से) स्वस्थ व्यक्तियों पर प्रयोग किया गया, जिसमे मिनट में खुराक दी गयी एवं लक्षण दर्ज किये गए हैं|
4) दवा-गतिशीलता का सिद्धांत – दवाई शारीरिक खुराक पर निर्धारित नहीं हैं लेकिन संभावित दवाएं बीमार व्यक्तियों के इलाज के लिए उपयोग कर रहे हैं.. डॉ. स्टुअर्ट बंद लिखते हैं, "होम्योपैथिक संभावना" कटौती के लिए, पैमाने के अनुसार, कच्चे तेल की जानकारी के लिए, एक गणितीय यांत्रिक प्रक्रिया है, होम्योपैथिक चिकित्सा उपचार के रूप में उपयोग करने के लिए अक्रिय या जहरीला औषधीय पदार्थों की शारीरिक में घुलने के स्तर, शारीरिक एकजुटता एवं चिकित्सीय गतिविधि और हानिरहित का धयान रखा जाता है".. प्रो डा. रति राम शर्मा ने नियंत्रित पशु प्रयोग में ऐलोक्सेन पर प्रयोग से दिखाया है जो चूहों में मधुमेह और डी ऍम बी ऐ (डाइमिथाइल-बेंज-अन्थ्रासिने) जिसमे चूहों में प्रेरित विषाक्तता एवं कैंसर शामिल है, रासायनिक कारण के कारण बीमारी का उपचार 20m गतिशीलता (30C के समकक्ष) हो सकता है लेकिन अ-गतिशीलता को उसी सीमा तक कम करने पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा|
5) पुराने रोगों का सिद्धांत –ओर्गानों के 6 संस्करण के 78 सूत्र में हैनिमैन लिखता है, प्राकृतिक पुराने रोगों का सच यह है कि ये एक पुरानी सड़ाँध से प्राकृतिक रूप से उठते हैं (ग्रीक सड़ाँध का अर्थ गलती या धब्बा, और यह विरासत में मिला है या अधिग्रहण किया गया है), जिन्हें उनको छोड़ दिया जाता है, और रोजगार के उन उपायों से अनियंत्रित जो कि विशेष कर उनके लिए हैं, जो हमेशा बड़ते जा रही है, और बुरी तरह से बढ़ रही है फिर भी सर्वश्रेष्ठ मानसिक और मूर्त आहार है और रोगी की पीड़ा उसके अपने जीवन के अंत तक कभी तेज दुख के साथ होती है... ... " वह सभी बीमारियां, जो गलत जीवन शैली, अस्वास्थ्यकर वातावरण या विभिन्न दवाओं (लेटरोगेनिक रोग) के कारण होती हैं, वे इस रोगों के समूह का हिस्सा नहीं हैं.. होम्योपैथी पुराने रोगों पर विचार करता है, महत्वपूर्ण बल के गलत काम करने पर होता है, जिसके कारण बीमारियों की श्रृंखला /कठिन लक्षण का विकास होता है और उसे केवल एक संवैधानिक (विरोधी-घरेलू भाप के साथ) उपाय से ठीक किया जा सकता है|
6) महत्वपूर्ण बल का सिद्धांत - होम्योपैथी एक ऐसी ताकत में विश्वास करता है, जो अपनी संतुलन की वजह से मानव जीव और शरीर के सामंजस्यपूर्ण कार्य को साहस देती है.. व्यावहारिक रूप से किर्लियन फोटोग्राफ़ी ने इस बहुत जैव गतिशील की उपस्थिति को या जैव विद्युत क्षेत्र, जो प्रत्येक व्यक्ति के लिए अद्वितीय है, जो शर्तों या रोगों में बदलता भी है, बताया है और दिखाया है | जीने के बल के अस्तित्व में विश्वास अतिप्राचीन और व्यापक है.. हिन्दू द्वारा प्राण, चीनी द्वारा ची और जापान द्वारा की कहा जाता है, यह जीवन का स्रोत है जो आत्मा, भावना और दिमाग के साथ अक्सर जुड़ा हुआ है.. प्राचीन समय में आत्मा की पहचान सांस के साथ की जाती थी, जिसे हिब्रूज राच, यूनानी मानस या प्नयूमा (देवताओं की सांस) और रोम के लोग स्प्रिटस बुलाते थे.. प्राचीन यूनानी दार्शनिक प्रोसिडोनिउस (ई.पू. 135-51) ने बताया, पृथ्वी की सतह पर सभी जीवित प्राणियों के लिए सूरज द्वारा एक "महत्वपूर्ण बल" उत्पन्न होता है.. आर्थर स्कोपेनहुअर (1788-1860) जीने की इच्छा की एक सामान धारणा से परिचय कराया.. अपनी पंक्ति की सोच से प्रभावित होकर 20 वीं सदी में हेनरी बर्गसन ने महत्वपूर्ण वेग शब्द की रचना की और अपनी पुस्तक क्रिएटिव इवोल्यूशन (1907) में, इसका परिचय कराया, जिसका अंग्रेजी संस्करण में अनुवाद "महत्वपूर्ण प्रोत्साहन" के रूप में हुआ (उनके विरोधियों ने इसका नाम "जीवन शक्ति" दिया).. यह एक काल्पनिक विवरण है जो विकास और जीवों के विकास के लिए है जिसे बर्गसन ने चेतना के साथ जोड़ा|

स्वास्थ्य एक व्यक्ति के शरीर और दिमाग को खुद के भीतर और अपने पर्यावरण में संतुलित बनाये रखने की अवस्था है.. स्वास्थ्य के दौरान, एक व्यक्ति सामान्य उत्तेजना और कार्य करता है क्योंकि शरीर और मन दोनों एक सामंजस्यपूर्ण ढंग से काम करते हैं.. मानव में बहुआयामी स्तर – भौतिक, मानसिक, भावुक, आध्यात्मिक और सामाजिक शामिल हैं, किया जा रहा और किसी भी स्तर पर इनमें यहां तक कि एक मामूली गड़बड़ी किसी भी दिशा में, प्रभाव की लहर कारण हो सकती है|
कुछ लेखक स्वास्थ्य को रोग की अनुपस्थिति(यह + आराम) के रूप में परिभाषित करते हैं.. तार्किक घटनाएं के आधार पर, स्वास्थ्य और रोग अलग नहीं हैं, पूरी तरह से एक ही हैं बल्कि शरीर की आपेक्षित स्थिति हैं|
जीवन कभी भी स्थिर नहीं है बल्कि निरंतर गतिशील है (इस प्रकार हम होम्योपैथी में, इसे गतिशील कहते हैं), होम्योपैथी विचार - कोई भी बीमारी स्थिर या अलग इकाई के रूप में नहीं बल्कि एक विकासवादी घटना है.. रोग के गठन की प्रक्रिया गतिशील स्तर (गणितीय विक्षिप्त महत्वपूर्ण बल) पर शुरू होती है और इस प्रकार अध: पतन की कार्यात्मक और संरचनात्मक स्तर से गुजरती है.. आधुनिक पार्थो-फिजियोलॉजी, रोग को संवेदना परिवर्तन के माध्यम से भी समझते हैं, इसके बाद कार्य में बदलाव और अंत में संरचनात्मक परिवर्तन विकास से समझते हैं|
होम्योपैथिक चिकित्सा शरीर के प्राकृतिक रक्षात्मक तंत्र को समर्थन प्रदान करते हैं और स्थायी रूप से रोगों का इलाज करते हैं.. पूरे शरीर का इलाज किया जाना चाहिए ताकि यह अपने चयापचय और पुन: स्थापन के प्राकृतिक कार्य में सुधार कर सकते हैं|
अन्य चिकित्सा पद्धतियों की तरह होम्योपैथी की अपनी सीमाएं हैं; होम्योपैथी में प्रतिक्रिया, उपचार छवि की स्पष्टता, शरीर की बचाव मुद्रा प्रणाली, बीमारी का प्रकार एवं बीमारी की सीमा और रोगी द्वारा पहले किये गए उपचार पर निर्भर करता है.. होम्योपैथिक उपचार का प्रभाव एक उच्च ब्यक्तिगत बात है और कई कारकों इसमें योगदान कर रहे हैं|
विशेषकर वर्तमान में, जहां चिकित्सक विशेषज्ञता और अति विशेषज्ञता (कम से कम का अधिक से अधिक देख रहे हैं !) की ओर बढ़ रहे हैं, होम्योपैथी को स्वयं पर गर्व है जो समग्र दृष्टिकोण के साथ ध्वज वाहक है.. जैसा कि मशहूर अरस्तू ने कहा था, 'सम्पूर्ण, छोटे हिस्सों के योग की अपेक्षा अधिक है'.. सिस्टम सोच और दर्शन के उदय के साथ, हमारे जीवन के समग्र दृष्टिकोण (और रोग) को एक और बढ़ावा मिल गया है |
Latest News
 
Advertisement 47APP on contract basis
Automated System of Allotment Govt. of Delhi (e-Awas)
Budget-19-20
Delhi Budget 2017_18
Discontinuation of physical printing of Government of India Gazettes
Draft Delhi Road Safety Policy
Economic_survey-2018-19
Empanelment of Ms ICSIL for hiring of contractual manpower
Extention of date Application for the post of Other Persons Members for Lok Adalats
Guidelines for Modal RFP Documents
 
Local Services
 
Feedback
 
Important Links
 
Homeopathic Pharmacopoeia Laboratory
Department Of Ayush
Central Council for Research In Homeopathy.
Central Council Of Homeopathy.
Department Of Health And Family Welfare
 
 Last Updated : 11 Aug,2014